सावन के महीने में घर पर लगाएं ये पौधे, हमेशा बरकरार रहेगी सुख-समृद्धि

0
109
Listen to this article

सावन का पावन महीना हिंदू धर्म का सबसे पवित्र और भगवान भोले का सबसे प्रिय महीना होता है. सावन महीने की शुरुआत 14 जुलाई से हो रही है. वास्त्रु शास्त्र के अनुसार यदि आप सावन के महीने में अपने घर पर इन पौधों को लगाते हैं तो आपके घर में हमेशा तरक्की होती है. इतना ही नहीं इन पौधों को सावन के महीने में लगाने से घर में कभी पारिवारिक विवाद या आर्थिक तंगी जैसे हालात नहीं बनते हैं. आइए जानते हैं कौन से हैं ये पौधे जिसको सावन के महीने में लगाना बहुत शुभ होता है.

शमी का पौधा वास्तु शास्त्र के अनुसार सावन के महीने में घर पर शमी का पौधा लगाना बहुत शुभ होता है. मान्यता है कि इस पौधे को जो लोग सावन के महीने में लगाता है, उनके घर में कभी किसी चीज की कमी नहीं होती है. इतना ही नहीं शमी के पौधै की नियमित पूजा करने से घर की सारी दिक्कतें दूर हो जाती हैं.

मनी प्लांट का पौधा वास्तु शास्त्र के अनुसार सावन के महीने में मनी प्लांट का पौधा लगाने से घर में लक्ष्मी जी का वास होता है और घर में कभी आर्थिक तंगी नहीं आती है. ऐसी मान्यता है कि मनीप्लांट जितनी तेजी से बढ़ता है, उतनी ही तेजी से घर की तरक्की होती है. सावन के महीने में इस पौधे को घर में लगाने से ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है.

तुलसी का पौधा वास्तु शास्त्र के अनुसार यदि आप सावन के महीने में तुलसी का पौधा लगाते हैं तो आपके घर में सुख-समृद्धि में वृ्द्धि होगी. तुलसी का पौधा जितना ही हरा-भरा रहेगा उतना ही आपके घर में तरक्की होगा. तुलसी के पौधे को घर के ईशान कोण में लगाना शुभ होता है.

दूब का पौधा वास्तु की मानें तो सावन के महीने में दरवाजे पर दूब का पौधा लगाने से घर में सकारात्मक ऊर्जा का वास होता है. ऐसी मान्यता है कि इस पौधे की पत्तियां जितनी हरी-भरी होती है, घर में उतनी ही ज्यादा खुशहाली होती है, दूब का पौधा घर के पूर्व या उत्तर दिशा में होना चाहिए.

धतूरा का पौधा वास्तु शास्त्र की मानें तो धतूरा में शिव जी का वास होता है और शिव जी का सबसे प्रिय महीना सावन होता है. इसलिए सावन के महीने में धतूरा का पौधा लगाने से शिव जी प्रसन्न होते हैं. जो व्यक्ति सावन के महीने में धतूरा का पौधा लगाता है उस पर शिव जी की विशेष कृपा प्राप्त होती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here